Home न्यूज ओड़िसी नृत्य संग शक्ति रूप शिव स्वरूप नाटिका ने मंत्र मुग्ध किया 

ओड़िसी नृत्य संग शक्ति रूप शिव स्वरूप नाटिका ने मंत्र मुग्ध किया 

91
0

चैती महोत्सव-2023 आठवीं संध्या 

लखनऊ, 29 मार्च 2023। तुलसी शोध संस्थान उ.प्र. के तत्वावधान में श्री रामलीला परिसर ऐशबाग में चल रहे भारतीय नववर्ष मेला एवं चैती महोत्सव-2023 की आठवीं संध्या में ओड़िसी नृत्य संग शक्ति रूप शिव स्वरूप नृत्य नाटिका ने मंत्र मुग्ध किया।

इसके पूर्व आज की सांस्कृतिक सन्ध्या का उद्घाटन उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक उत्तर प्रदेश ने दीप प्रज्जवलित कर किया। इस अवसर पर पं आदित्य द्विवेदी और हरीश चन्द्र अग्रवाल और प्रमोद अग्रवाल ने बृजेश पाठक को पुष्प गुच्छ, अंग वस्त्र और स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। इस मौके पर ज्ञान प्रकाश चतुर्वेदी तुलसी गौरव सम्मान से सम्मानित हुए।

भारतीय नववर्ष मेला एवं चैती महोत्सव-2023 की आठवीं सांस्कृतिक सन्ध्या का शुभारम्भ प्रसिद्ध ओड़िसी नृत्यांगना मेघना दास के ओड़िसी नृत्य से हुआ। मेघना ने 14 मात्रा ज्योति ताल राग मिश्र खमाज में पगे जयदेव कृत गीत गोविन्द से उधृत मंगलाचरण की सुखद प्रस्तुति दी, जिसमें भगवान विष्णु के विभिन्न रूपों का मनोरम वर्णन नृत्याभाव से  दृष्टिगोचर हुआ।

भगवान श्री हरि के चरणों में समर्पित इस प्रस्तुति के उपरान्त रिदम डिवाइन डान्स सेन्टर के कलाकारों मौली सिंह, प्रख्याती श्रीवास्तव, आशी अग्रवाल, अनुष्का निगम, आलिया राज, अनुषा राज, मुस्कान अग्रवाल, खुशी अग्रवाल, आराध्या मिश्रा, आन्या सिंह तोमर, नन्दिनी गुप्ता, सान्वी गुप्ता, ध्रुवी आदित्य और दिक्क्षीता श्रीवास्तव ने अमृत सिन्हा के नृत्य निर्देशन में भरतनाट्यम एवं कथक नृत्य शैली के सम्मिश्रण में पगी शक्ति रूप शिव स्वरूप नृत्य नाटिका को प्रस्तुत कर भगवान शिव शंकर के शान्त व रौद्र रूप के दर्शन कलाप्रेमी दर्शकों को कराए।

संगीत से सजे कार्यक्रम के अगले प्रसून में मंदाकिनी बहुगुणा के नृत्य निर्देशन में हार्ट एण्ड सोल के कलाकारों प्रिया, स्वरा, अमा, वर्तिका, तान्या, हर्गुन, श्री, गौरी, व्याख्या ने दुर्गा स्तुति पर भावपूर्ण कर दर्शकों भगवती देवी दुर्गा की भक्ति का रसापान कराया। भक्ति भावना से परिपूर्ण इस प्रस्तुति के उपरान्त सरिता श्रीवास्तव की परिकल्पना एवं अवधारणा में राष्ट्रीय कथक संस्थान के कलाकारों में कथक नृत्य माला की हृदयग्राही प्रस्तुति दी।

मन को मोह लेने वाली इस प्रस्तुति के बाद भास्कर बोस के निर्देशन में नाटक शबरी का मंचन किया गया, जिसमे शबरी के जीवन चरित्र का वर्णन समाहित था, सशक्त कथानक से परिपूर्ण इस नाटक में भाग लेने वाले कलाकार थे शंकर पाल, सैमुल, संजीत मंडल, प्रिंस, अपर्णा, प्रिया पांडेय व अन्य।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here