Home न्यूज हरि नाम नहीं तो जीना क्या अमृत है हरि नाम जगत में...

हरि नाम नहीं तो जीना क्या अमृत है हरि नाम जगत में – मैथिली ठाकुर

121
0

धीरेन्द्र श्रीवास्तव
मिश्रिख, सीतापुर। होली मेला महोत्सव में चल रहे सांस्कृतिक कार्यक्रमों की शंखला में सोमवार शाम को सीतापुर जिले प्रभारी मंत्री राज्यमंत्री संसदीय कार्य चिकित्सा शिक्षा, स्वास्थ्य , परिवार कल्याण मातृ एवं शिशु कल्याण विभाग उत्तर प्रदेश श्री मयंकेश्वर शरण सिंह ने मिश्रित-नैमिषारण्य होली मेला महोत्सव के सांध्य कार्यक्रम में दीप प्रज्वलित कर नैमिषारण्य 84 कोसीय होली महोत्सव का शुभारंभ किया मेले में प्रभारी मंत्री जिलाधिकारी अनुज सिंह व पुलिस अधीक्षक घुले सुशील चन्द्रभान ने स्मृति चिन्ह भेंट कर उनका स्वागत किया।सभी अतिथियों ने नैमिषारण्य पुस्तक का विमोचन किया । मंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि इस प्रकार के आयोजन भारतीय संस्कृति को आगे बढ़ाने का काम करते हैं।
मिश्रिख मेला महोत्सव पहुंचने से पहले मंत्री तीर्थ नैमिषारण्य पहुंचे। नैमिष सीएचसी में डाक्टरों की तैनाती को लेकर मंत्री ने कहा कि आप लोगों के माध्यम से हमें यह जानकारी मिली है कि। नैमिष सीएचसी में डाक्टरों की कमी है। जल्द ही डाक्टरों की तैनाती की जाएगी। उन्होंने कहा हमारी सरकार की प्राथमिकता है कि पूरे प्रदेश में ऐसे सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाएं जिससे हमारे अध्यात्म को और भारतीय संस्कृति को बढ़ावा मिले ।
इनके सुरो ने शमा बांध दिया-
विख्याति भजन गायिका मैथिली ठाकुर के गीत, अमृत है हरि नाम जगत में इसे छोड़ विषय विष पीना क्या हरि नाम नहीं तो जीना क्या ,,राम जी से पूछे जनकपुर की रानी बता दे बबुआ बबुआ देत काहे गाली बता दे बबुआ।के गीत पर दर्शक झूम उठे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here