Home न्यूज विदिशा ट्रस्ट द्वारा ‘वाइब्रेंट विदिशा’ शीर्षक से चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन

विदिशा ट्रस्ट द्वारा ‘वाइब्रेंट विदिशा’ शीर्षक से चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन

91
0

विदिशा ट्रस्ट द्वारा लगातार 12वें वर्ष में 16 वर्ष तक की आयु के बच्चों के लिए ‘वाइब्रेंट विदिशा’ शीर्षक से चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया

• आस्था हॉस्पिटल, लखनऊ के साथ मिलकर बच्चों के लिए फ्री हेल्थ चेक-अप कैंप भी आयोजित किया गया।
• अन्य लोकप्रिय आकर्षणों सहित ‘मैजिक शो‘ तथा पुरस्कार वितरण भी हुआ।

लखनऊ, 8 जुलाई 2023 : विदिशा ट्रस्ट ने अपनी वार्षिक चित्रकला प्रतियोगिता के 12वें संस्करण ‘वाइब्रेंट विदिशा-2023’ का आयोजन किया। विदिशा ट्रस्ट की सह-स्थापना अशोक एवं वंदना भार्गव द्वारा अपनी प्यारी बेटी विदिशा की स्नेहिल स्मृति में की गई थी। विदिशा के मुस्कुराते चेहरे ने सदैव अपने आसपास प्रेम, खुशी व मुस्कान का वातावरण बनाया था। इस वर्ष यह लक्ष्य निर्धारित किया गया था कि युवा चित्रकारों की नैसर्गिक प्रतिभा को प्रदर्शित करके चित्रकला को अभिव्यक्ति के एक सशक्त माध्यम के रूप में स्थापित किया जाए। साथ ही उनकी प्रतिभा को प्रदर्शित करने का एक समुचित माध्यम उपलब्ध कराया जाए। 16 वर्ष तक की आयु के बच्चों हेतु तीन श्रेणियां प्लैटिनम, गोल्ड एवं सिल्वर रखी गई थीं, जबकि एक विशेष ग्रुप वरिष्ठों (माता-पिता) के लिए भी रखा गया था। इस अनूठे आयोजन में 600 से अधिक बच्चों ने अपने माता-पिता के साथ मिलकर अपनी प्रतिभाओं का शानदार प्रदर्शन किया और रंगों के माध्यम से बोल्ड स्ट्रोक के ज़रिए अपनी सोच, अपनी भावनाओं की अभिव्यक्ति स्वरूप कलाकृतियों को उकेरा। विगत् वर्षों की भांति इस वर्ष भी ‘डबल धमाका‘ के अंतर्गत निःशुल्क स्वास्थ्य परीक्षण कैम्प का आयोजन भी किया गया। आस्था हॉस्पिटल के सहयोग से आयोजित इस कैम्प में विभिन्न प्रकार की बीमारियों हेतु परीक्षण किया गया, सलाह दी गई और विभिन्न रोगों से बचाव हेतु बच्चों के माता-पिता को भी अवगत कराया गया। स्वास्थ्य शिविर में भी सभी की उत्साहजनक सहभागिता रही।

विजेताओं को ट्रॉफी एवं अन्य उपहार जैसे टी-शर्ट, कैप, बैज आदि भी प्रदान किए गए। चित्रकला प्रतियोगिता के समस्त प्रतिभागियों को प्रमाण-पत्र भी दिए गए। प्रसन्नता, संतुष्टि की अनुभूति और मुस्कान ने यह साबित कर दिया कि खुशियां हमेशा बांटने से बढ़ती हैं। इस अवसर पर मनोरंजन एवं सहभागिता के कई आयोजन हुए। उल्लास और मनोरंजन के इस आयोजन का एक और आकर्षण था ‘मैजिक शो’ जो हाथ की सफाई का अनूठा आकर्षण था।

प्रतिभागियों को दो विषयों में से चुनने का अवसर दिया गया था। पहला था ‘सेव योर प्लैनेट’ जिसमें प्रकृति के सम्मान एवं सामंजस्य से अपनी प्यारी धरती को स्वच्छ, हरित और स्वस्थ बनाए रखने का आह्वान किया गया। प्रतिभागी अपनी धरती के सुंदर दृश्यों, वृक्षों, झाड़ियों, समुद्री जीवन, वन क्षेत्रों अथवा अन्य वह सब कुछ अपनी कृतियों में उकेर सकते थे जो हमारे चारों ओर फैले प्राकृतिक वातावरण को दर्शाता है। दूसरा विषय था ‘स्वादिष्ट खानपान’ जिसके अंतर्गत प्रतिभागी अपनी खट्टी-मीठी पसंद के अनुसार व्यंजन कागज पर उकेर सकते थे। प्रतिभागियों ने अपने पसन्दीदा स्वादिष्ट व्यंजनों का दक्षतापूर्ण तरीके से चित्रांकन किया जिसके द्वारा उन्होंने अपने ज़ायकेदार व्यंजनों को प्रस्तुत किया।

इसके अलावा बच्चों को कार्यक्रम स्थल के निकट संगीत संस्थान ‘अन्तरा’ में नामांकन कराने का भी विकल्प था। ‘अन्तरा’ अपने प्रारंभ से ही सभी उम्र के बच्चों को नृत्य, गायन और वाद्य तीनों विधाओं में गुणवत्तापूर्ण पेशेवर प्रशिक्षण प्रदान कर रहा है।

इस अवसर पर विदिशा ट्रस्ट की डायरेक्टर, श्रीमती वन्दना भार्गव ने कहा कि ‘‘भावी कलाकारों की छुपी प्रतिभा को सामने लाने और प्रोत्साहित करने के ध्येय से परिलक्षित व आयोजित यह प्रतियोगिता चित्रकला में रूचि रखने वालों को वार्षिक मंच दे रही है। वैसे भी हम हर बच्चे के चेहरे पर मुस्कान लाने का जुनून रखते हैं। आज बच्चों की मुस्कुराहटों के साथ व उत्साही भागीदारी को देखकर हमारा जुनून दोगुना हो गया है। लाखों बच्चों को खुशियां बांटने का हमारा मकसद और मज़बूत हुआ है। इस तरह हम उस ओर बढ़ रहे हैं जो विदिशा ने चुना था, यानी ‘हर बच्चे के लिए मुस्कान खोजें’।
विदिशा ट्रस्ट के सभी सदस्यों ने इस आयोजन के एसोसिएट स्पॉन्सर, डॉ. अभिषेक शुक्ला, हेड-आस्था ग्रुप; श्री अमित भार्गव एवं श्री गिरिजा शंकर अग्रवाल, परिवार के सदस्य व मित्रगण जिन सबने साथ मिलकर इस आयोजन को इतना सफल बनाया, उन सबको धन्यवाद ज्ञापित किया।
Winners List –
Junior:
1st Prize – Riddhi Singh
2nd Prize – Akshat Verma
3rd Prize – Aryan Sadhwani
Creative Prize 1 – Apratim Gupta
Creative Prize 2 – Jeevika Dev
Creative Prize 3 – Abhinav Prajapati
Senior:
1st Prize – Simran Sadhwani
2nd Prize – Saumya Verma
3rd Prize – Rudra Kashyap
Diamond Prize – Prateek Vishwakarma

श्री अशोक भार्गव एवं श्रीमती वन्दना भार्गव की पुत्री विदिशा भार्गव के दुःखद निधन के पश्चात् उसकी स्मृति में वर्ष 2011 में स्थापित ^विदिशा ट्रस्ट* एक समाज सेवा संगठन है] जो समाज कल्याण के लिए समाज सेवा के अनेक कार्यक्रम संचालित कर रहा है। ट्रस्ट का यह दृढ़ विश्वास है कि समाज में सौहार्द बनाए रखने के लिए यह आवश्यक है कि अपने बच्चों को विरासत के तौर पर एक नई] बेहतर और खुशहाल दुनिया का बहुमूल्य उपहार दें जिससे उनको भविष्य में सक्षम और समृद्ध नागरिक बनने का पूरा&पूरा अवसर मिले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here