Home न्यूज बेटियां सेल्फ डिफेन्स सीखेंगी तो परिवार और समाज बनेगा बेहतर : नीरज...

बेटियां सेल्फ डिफेन्स सीखेंगी तो परिवार और समाज बनेगा बेहतर : नीरज बोरा

83
0

पढ़ाई के साथ बेटियों को स्कूल-कालेजों में सिखाएं जायें आत्मरक्षा के तौर तरीके
लखनऊ, 17 अक्टूबर। जैकसन ग्रुप ने लेट्स गिव होप फाउंडेशन के सहयोग से आज सुभाषचन्द्र बोस राजकीय कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय की 500 से अधिक छात्राओं के लिए महिला सशक्तिकरण की दिशा में एक कदम बढ़ाते हुए सेल्फ डिफेंस ट्रेनिंग का आयोजन एलडीए स्टेडियम अलीगंज में किया गया। सक्षम कार्यक्रम के अंतर्गत कार्यक्रम का उद्देश्य छेड़छाड़ और महिला उत्पीड़न जैसी गंभीर समस्याओं पर अंकुश लगाकर बालिकाओं का आत्मविश्वास बढ़ाते हुए उन्हें ऐसे खतरों से खुद निपटने के लिए सक्षम बनाना रहा।
कार्यशाला में मुख्यअतिथि के रूप में नगर के उत्तरी क्षेत्र विधायक डा.नीरज बोरा ने नवरात्र पर प्रदेश सरकार द्वारा मिशन शक्ति के चौथे चरण की शुरुआत का हवाला देते हुए मिशन चंद्रयान में योगदान देने वाली लखनऊ की बेटी ऋतु करिधाल की चर्चा की। कहा कि बेटियों को शिक्षा देने के साथ उनकी शारीरिक क्षमता बढ़ाना, ऊर्जा भरना, उनके भीतर आत्मविश्वास जगाना और कुछ करने का हौसला जगाना समय की आवश्यकता बन गया है। बेटियां मजबूत और सक्षम बनेंगी तो पहले परिवार और फिर समाज भी बेहतर बनेगा। बेटियां अब सामान्य पढ़ाई के साथ खेलों और तकनीकी शिक्षा में भी बहुत आगे जा रही हैं। बालिकाओं को सेल्फ डिफेन्स के तौर तरीके जरूर सीखना चाहिए। ऐसे आयोजनों में ट्रेनिंग के माध्यम से बालिकाएं हर तरह से मजबूत होंगी। विशिष्ट अतिथि के रूप में पूर्व स्क्वाड्रन लीडर अभय प्रताप सिंह ने कहा कि समाज के कमजोर तबकों के लोगों के साथ ही दिव्यांगों और बालिकाओं-महिलाओं को तरह-तरह के आयोजनों से मानसिक, शारीरिक और आर्थिक रूप से सक्षम बनाना हम सबका सामाजिक उत्तरदायित्व है। जैकसन ग्रुप की सीएसआर हेड राधिका अरोड़ा ने कहा कि हम लेट्स गिव होप फाउंडेशन के साथ मिलकर इस मिशन को हम और भी आगे बढ़ाएंगे, अपना सहयोग देते रहेंगे।प्रधानाचार्या अनुराधा तिवारी का कहना था कि एक अच्छे अभियान में हमें जैकसन ग्रुप और लेट्स गिव होप का साथ मिला। हम चाहेंगे कि वे आयोजन अन्य विद्यालयों-महाविद्यालयों में करने के साथ आगे भी हमारे महाविद्यालय को ज़रूर शामिल करें। हर माता पिता को अपनी बेटियों को पढ़ाई के साथ-साथ आत्मरक्षा का प्रशिक्षण दिलाना चाहिए।
अलीगंज स्टेडियम में आये कलारीपयट्टू कर्मा गुरुकुल के प्रशिक्षक इमरान अली का कहना था कि संकट के समय खुद को बचाने के लिए सीखी गई तकनीकें बालिकाओं में आत्मविश्वास पैदा करती हैं और उन्हें सुरक्षित महसूस कराती हैं। विशेषज्ञों ने युवतियों को मुश्किल समय में या किसी के द्वारा अचानक हमला करने पर कैसे बचें, इसके लिए ब्लॉक, पंचिंग और किकिंग की तकनीक के गुर और बारीकियां भी बतायीं समझाईं।
लेट्स गिव होप फाउंडेशन के संस्थापक आशीष मौर्या ने बताया कि हमारा यह मिशन पूरे उत्तर प्रदेश में प्रस्तावित है। कार्यक्रम में छात्राओं के संग कुमार अविषेक, विवेक श्रीवास्तव, प्रियंका पाल अन्य अधिकारी और महाविद्यालय की शिक्षिकाएं उपस्थित थींI

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here