Home आध्यात्म धूमधाम से निकली भरत मिलाप शोभा यात्रा हुआ राम का राज्याभिषेक

धूमधाम से निकली भरत मिलाप शोभा यात्रा हुआ राम का राज्याभिषेक

34
0

लखनऊ, 25 अक्टूबर 2023। अधर्म पर धर्म के प्रतीक विजयादशमी का पावन पर्व मंगलवार को श्री रामलीला समिति ऐशबाग के तत्वावधान में रामलीला मैदान ऐशबाग में ‘ सनातन धर्म के विरोध का दमन हो ‘ शीर्षक से रावण के पुतले के दहन के साथ दशहरा धूमधाम व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया।

ऐशबाग रामलीला मैदान में  ‘ सनातन धर्म के विरोध का दमन हो ‘ शीर्षक से 80 फीट ऊंचे रावण के  जलते हुए पुतले को देख लोगों ने जमकर लुत्फ उठाया। इस दौरान श्री रामलीला कमेटी ऐशबाग द्वारा भव्य रंगीन आतिशबाजी का भी प्रदर्शन किया गया। रावण के पुतले के दहन के पूर्व मंच पर मंदोदरी रावण संवाद, मेघनाथ वध, राम रावण युद्ध और रावण वध लीला भी हुई।

इस अवसर पर श्री रामलीला समिति ऐशबाग के अध्यक्ष हरीशचन्द्र अग्रवाल और सचिव पं. आदित्य द्विवेदी ने उत्तर प्रदेश के राज्य सभा सांसद व पूर्व उप-मुख्यमंत्री डाॅ0 दिनेश शर्मा, उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक, नम्रता पाठक, मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा को पुष्प गुच्छ, अंगवस्त्र, स्मृति चिन्ह और रामचरितमानस की प्रतियां भेंटकर सम्मानित किया।

समारोह में राज्य सभा सांसद डॉ दिनेश शर्मा ने कहा कि विजयादशमी असत्य पर सत्य, अधर्म पर धर्म, बुराई पर अच्छाई और रावण पर राम की विजय प्राप्त करने का दिवस है। उन्होंने कहा कि रामचरित मानस एक अद्वभुत ग्रन्थ है। डाॅ. दिनेश शर्मा ने कहा कि ऐशबाग रामलीला का अपना इतिहास रहा है। इसका इतिहास 16वीं शताब्दी में दर्ज है।

कार्यक्रम में उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने कहा कि आने वाले दिनों में ऐशबाग की रामलीला प्रदेश की ही नही, भारत की नम्बर वन रामलीला होगी। प्रमुख सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा ने कहा कि रामायण में निहित राम जी का जीवन, उनका चरित्र, उनका आचरण, उनका व्यवहार सभी चीजों को, व्यक्ति को अपने जीवन में उतारना चाहिए, उससे सीखना चाहिये। गोस्वामी तुलसी दास जी के पग चिन्हों से पल्लवित ऐशबाग की राम लीला बहुत खास है। दशहरे पर रावण के पुतले को जलाकर हम सभी यह स्मरण करते हैं कि असत्य पर सत्य की विजय होती है। इस मौके पर सर्वेश अस्थाना सहित अन्य गणमान्य व्यक्तियों के अलावा तमाम दर्शक उपस्थित थे।

धूमधाम से निकली भरत मिलाप शोभा यात्रा

भगवान श्री राम के 14 वर्षों के वनवास के उपरान्त भरत से मिलने के लिए भरत मिलाप शोभा यात्रा श्री राम लीला समिति ऐशबाग के तत्वावधान में आज दोपहर निकाली गई।

भरत मिलाप शोभा यात्रा ऐशबाग रामलीला मैदान से श्री राम लीला समिति ऐशबाग के अध्यक्ष हरीशचन्द्र अग्रवाल, सचिव पं0 आदित्य द्विवेदी और कोषाध्यक्ष प्रमोद अग्रवाल की अगुवाई में पीली कालोनी, वाटर वर्क्स रोड, कोयला मण्डी, यहियागंज चैराहा, राजाबाजार, सुभाष मार्ग, रकाबगंज, नेहरू क्रास, सिद्धनाथ मंदिर, नादान महल रोड, वर्मा बस स्टाप, धर्मध्वज मंदिर चौराहे पर पहुंची जहां पर बहुत धूमधाम से भरत मिलाप कार्यक्रम हुआ। इस दौरान रास्ते में बने हुए तमाम तोरण द्वारों पर शोभा यात्रा का स्वागत किया गया, कहीं महिलाओं ने भगवान श्री राम की आरती उतारी तो कहीं भगवान श्री राम को मिष्ठान, दूध और फल खिलाए।

भरत मिलाप शोभा यात्रा के दौरान लखनऊ, उन्नाव, हरदोई, सीतापुर, बाराबंकी के लगभग 400 वाद्य कलाकारों ने प्राचीन भारतीय परम्परागत वाद्ययंत्रों यथा मोरबिन, हुड़का, लेजम, झींका, चिलमची, बगलधौंस, नगड़िया, ताशा, पिपिहरी, लिल्लीघोड़ी, मुनादी ढोल और सपेरा बीन की धुने बजाई। शोभायात्रा के दौरान हाथी, घोड़ा, बघ्घी संग सैकड़ों की संख्या में बैण्ड बाजा समूहों ने भाग लिया। भरत मिलाप शोभायात्रा में भगवान राम के सभी स्वरूप आगे आगे चल रहे थे। इसके अलावा शोभायात्रा में भगवान श्री राम, माता सीता, लक्ष्मण, हनुमान जी, भगवान शिव, माता पार्वती, राधा-कृष्ण, शबरी, अनसुइया, नल, नील, जामवन्त, इन्द्र-इन्द्राणी, यशोदा, केवट, भरत, शत्रुहन, निषादराज, परशुराम, भगवान गणेश, वाल्मीकी और तुलसीदास जी के रथ सहित तमाम देवी देवताओं के रथ शोभायात्रा की शोभा बने।

 

=भरत मिलाप संग हुआ राम का राज्याभिषेक=

भारत की प्राचीनतम रामलीला समितियों में शुमार की जाने वाली श्री राम लीला समिति ऐशबाग के रामलीला मैदान में विगत 10 दिनों से चल रहे ’रामोत्सव-2023’ में आज ऐशबाग रामलीला का मंच भगवान श्री राम के जयघोष से गूंज रहा था। इस अवसर पर भरतमिलाप और राम राज्याभिषेक प्रसंगों का मनोरम मंचन भी किया गया। पुष्पवर्षा से ऐसा दृश्य परिलक्षित हो गया कि मानों ऐसा लग रहा था कि आकाश से पुष्पों की वर्षा हो रही हो। कुछ इसी मनोरम वातावरण में भगवान श्री राम का राज्याभिषेक हुआ, भगवान श्री राम के साथ माता सीता राजगद्दी पर विराजमान हुयीं। इस अवसर पर लक्ष्मण, भरत, शत्रुहन, हनुमान जी, राजा दशरथ की रानियों संग तमाम अयोध्या वासियों ने भगवान श्री राम की जयकार करते हुए पुष्पों की वर्षा की। इस दृश्य में तमाम दर्शकों की आंखें नम हो गई। राम राज्याभिषेक के दौरान राम आए अवध की ओर सजनी और सुस्वागतम सुस्वागतम गीतों पर कलाकारों ने भावपूर्ण अभिनय युक्त नृत्य प्रस्तुत कर दर्शकों को भाव विभोर कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here