Home न्यूज जी-20 की थीम पर रवीन्द्रालय चारबाग में किताबों का मेला प्रारम्भ

जी-20 की थीम पर रवीन्द्रालय चारबाग में किताबों का मेला प्रारम्भ

84
0

कालखण्ड के चरित्रों को उजागर करती हैं किताबेंः नम्रता पाठक
अब शुरू होगा भव्य प्रतियोगिताओं, साहित्यिक, सांस्कृतिक आयोजनों का दौर
लखनऊ, 17 मार्च। पुस्तकें अपने कालखण्ड के चरित्रों को उजागर करती हैं। यह पुस्तक मेला नहीं एक परम्परा है। पुस्तकों से हम और हमारी पीढ़ियां वेद काल से प्रेरणा लेते आ रहे हैं। रवीन्द्रालय चारबाग लान में आज से जी-20 की थीम प्रारम्भ लखनऊ पुस्तक मेले इस बार कई मामलों में विशिष्ट होगा। इसबार पुस्तक मेले में ये बातें उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक की पत्नी नम्रता पाठक ने मेले का उद्घाटन करते हुए कहीं।
उद्घाटन समारोह में उन्होंने ़त्रेता और द्वापर युग में रची गये रामायण और महाभारत जैसे ग्रंथों की चर्चा करते हुए कहा कि उन युगों की तरह आज की घटनाएं भी पुस्तकों में सिमट रही हैं और हमारे लिए सबक बन रही हैं। इसके साथ ही उन्होंने एक समर्पित राजनीतिज्ञ के कठिन जीवन और दिनचर्या की चर्चा भी उन्होंने अपने अनुभव के आधार पर श्रोताओं के सामने की। इससे पहले एडवोकेट रामजी दास ने अध्यक्षता करते हुए प्राचीनतम पुस्तक वेद की चर्चा करते हुए कहा कि ज्ञानार्जन की भूख और जिज्ञासा ही पुस्तकों को महत्वपूर्ण बनाती है।
प्रतीक के संचालन में चले समारोह में मेले के संरक्षक टीपी हवेलिया ने अतिथियों का स्वागत करते हुए पुस्तक मेलों की परंपरा और रूपरेखा को रखा और कहा कि आर्थिक पहलुओं से अलग इस मेले के उद्देश्य किताबों और पठन पाठन को लेकर जागरूकता पैदा करना है। अंत में संयोजक मनोज सिंह चंदेल ने आयोजन की गतिविधियों पर प्रकाश डाला। अंत में मेले के निदेशक आकर्ष चंदेल ने भी विचार रखे।
प्रतिदिन सुबह 11 बजे से रात नौ बजे तक जारी रहने वाले और एकदम फ्री इण्ट्री वाले इस मेले में जहां इस पुस्तक मेले में किताबों पर न्यूनतम 10 प्रतिशत तक छूट हर खरीदार को मिलेगी, वहीं मेले में उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान के स्टाल पर 15 परसेंट, सुभाष बुक स्टोर के स्टाल पर हिंदी किताबों पर 20 परसेंट, यज्ञ के स्टाल पर 25 और रामपुर रजा लाइब्रेरी के स्टाल पर 30 प्रतिशत तक छूट मिल रही है। यहां 10 हज़ार स्क्वायर फिट वाटर प्रूफ पंडाल में ओशो तपोवन नेपाल के साथ ही नेशनल बुक ट्रस्ट, एमटीजी लर्निंग, बोधरस प्रकाशन, पदम बुक्स, रितेश बुक, मुक्ता बुक, बीएफसी पब्लिकेशन्स, दि जूनियर एज, रामकृष्ण मठ, योगदा सोसायटी, अमर चित्र कथा, प्रकाशन विभाग, सस्ता साहित्य मण्डल, हिन्दी वांग्मय निधि, आर्यन बुक सेलर, ई-लोकल बुक शॉप, वैष्णवी बुक्स आदि के स्टाल हैं। लगभग 5 हज़ार वर्गफीट के सांस्कृतिक पाण्डाल में लेखक से मिलिए, पुस्तक विमोचन, युवा कार्यक्रम, कवि सम्मेलन मुशायरा सांस्कृतिक आयोजन होंगे।
मेला निदेशक आकर्ष चंदेल ने बताया कि मेले में कवि सम्मेलन-मुशायरे का आनन्द लेने के साथ लोगों को लेखकों-कवियों के साथ बात करने के मौके मिलेंगे ही स्थानीय लेखकों की पुस्तकों के लिए स्टाल सजाने के साथ ही पुस्तक प्रेमियों के लिए बुक लवर्स लाउंज भी तैयार किया गया है। साथ ही मेले में पार्किंग की समुचित व्यवस्था की गयी है। आज शाम संकल्प फाउंडेशन के कलाकारों ने शशि सिंह के संयोजन में विविधता भरा म्यूजिक फिर पीस कार्यक्रम पेश किया।
फोर्स वन बुक्स के साथ किरन फाउण्डेशन, ओरिजिन्स, ट्रेड मित्र आदि के सहयोग से हो रहे मेले में कल सुबह 11 बजे बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम, एक बजे से युवाओं के कार्यक्रम, तीन बजे से काव्यगोष्ठी, शाम छह बजे वैष्णवी और वाणी समूह के कार्यक्रम और शाम सात बजे से उत्कर्ष व हरेला बाखई ग्रुप की ओर से नाट्य प्रस्तुति होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here