Home न्यूज गोमती तट के गऊ घाट पर स्वच्छता एवं हरिशंकरी रोपण कार्यक्रम सम्पन्न

गोमती तट के गऊ घाट पर स्वच्छता एवं हरिशंकरी रोपण कार्यक्रम सम्पन्न

157
0

लोक भारती समेत अनेक संगठनों की रही सहभागिता 

लखनऊ : गोमती नदी के गऊ घाट पर रविवार की सुबह नदी एवं पर्यावरण प्रेमियों का जमघट हुआ। लोक भारती द्वारा हरियाली माह के अंतर्गत घाट पर साफ-सफाई अभियान के साथ-साथ अनेक स्थानों पर हरिशंकरी का रोपण किया गया। पौधों की सुरक्षा के लिए टी-गार्ड भी लगाए गए। इस कार्यक्रम में लोक भारती के अलावा गायत्री परिवार, आर्ट ऑफ लिविंग, अहसास, निसर्ग, नमामि गंगे दल एवं नेहरू युवा केंद्र जैसे सामाजिक संगठनों की भी सहभागिता रही।
लोक भारती संगठन पर्यावरण, जल संरक्षण और प्राकृतिक कृषि जैसे विषयों पर पूरे देश में कार्य कर रहा है। लोक भारती की सदस्य एवं सामाजिक कार्यकर्ता शची सिंह की अगुवाई में स्थानीय जनसहयोग से गोमती नदी के गऊ घाट की स्वच्छता और कैटिल कालोनी के पास नदी में गिरने वाले नाले का डायवर्जन कराने के संकल्प के साथ यह अभियान शुरू किया गया है। इसके अंतर्गत प्रत्येक रविवार को प्रातः छह से सात बजे तक श्रमदान के लिए लोक भारती सहित अनेक सामाजिक संगठनों एवं जागरूक नागरिकों का एकत्रीकरण हो रहा है। अभियान के पांचवें सप्ताह आज विभिन्न सामाजिक व आध्यात्मिक संस्थान भी इस अभियान से जुड़ने के लिए आगे आये। गोमती तट पर सैकड़ों स्वयंसेवकों के समूह के साथ स्थानीय जनों और लोक भारती के कार्यकर्ताओ ने नदी और घाट की सफाई करने के साथ ही 11 स्थानों पर हरिशंकरी का रोपण किया। भजन के साथ एक आध्यात्मिक वातावरण में यह पुनीत कार्य किया गया।
इस अवसर पर लोक भारती के राष्ट्रीय संगठन मंत्री बृजेंद्र पाल सिंह ने बताया कि एक माह के अभियान का परिणाम यह रहा है कि 17 जुलाई को लखनउ के नगर आयुक्त इन्द्रजीत सिंह ने स्वयं प्रातःकाल गौ घाट का लोक भारती कार्यकर्ताओं के साथ भ्रमण किया तथा गोमती में गिरने वाले गन्दे नालों को मौके पर देखा। इसके अलावा नगर निगम के कूडा उठाने वाले ट्रक व लोडर मौके पर लगाकर घाट पर एकत्रित कूड़े को भर कर हटाने का काम शुरू कर दिया। गोमती तट को सुन्दर और हरा-भरा बनाने साथ साथ नदी जल को स्नान करने लायक बनाने हेतु नदी में गिर रहे गन्दे नालों का डायवर्जन करना होगा। इसके लिए शासन को ज्ञापन भी दिया गया है। यह अभियान तब तक चलाना है जब तक कि गऊ घाट पर पूरी तरह स्वच्छ और स्नान करने लायक जल उपलब्ध न हो जाय। इस कार्य में लोक भारती के अध्यक्ष विजय बहादुर सिंह, राष्ट्रीय सम्पर्क प्रमुख श्रीकृष्ण चौधरी, रजनी चैहान, किरन सिंह, सरोज सिंह, चाणक्य चौहान, सुनील मिश्र, ओम प्रकाश, स्थानीय सभासद रानी कन्नौजिया, रामत्तर कन्नौजिया और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्थानीय स्वयंसेवक सहयोग कर रहे हैं।
अभियान की संयोजक श्रीमती शचि सिंह ने कहा कि समस्त स्थानीय नागरिकों व गोमती बचाओ अभियान में रुचि रखने वाले सभी लोगों से निवेदन है कि प्रत्येक रविवार को प्रातःकाल 6 बजे गोमती तट के गऊ घाट पर एकत्र होकर श्रमदान करें और गोमती माँ को स्वच्छ एवं निर्मल बनाने में अपना अमूल्य सहयोग प्रदान करें। इस अवसर पर लोक भारती के अध्यक्ष विजय बहादुर सिंह ने कहा कि लखनऊ नगर में गोमती तट पर अनेक घाट हैं, पर कहीं पर जल स्नान तो क्या, स्पर्श योग्य भी नहीं है। यह दु:खद है, जबकि लखनऊ में प्रवेश करने तक गोमती का जल अपेक्षाकृत स्वच्छ है।
इस आयोजन के दौरान नगर आयुक्त को ज्ञापन भी सौंपा गया जिसमें गऊ घाट से पहले गोमती में गिरने वाले एकमात्र नाले (कैटल कालोनी) को डाइवर्ट कर दौलतगंज एस टी पी से जोड़ने की मांग की गयी ताकि गोमती में प्रदूषित पानी आना बंद हो जाए। साथ ही घाट क्षेत्र से जलकुम्भी निकाली जाए और घाट से पहले गोमती में जाल लगा दिया जाए, जिससे वहीं पर जलकुम्भी निकाली जा सके और घाट स्वच्छ बना रहे। घाट पर गोमती की तल में जमा बालू आने तक सिल्ट निकाली जाए। घाट पर स्वच्छता की स्थायी व्यवस्था की जाए। गोमती में स्नान सीमा पर लगे पाइप में जंजीर लगायी जाए। इसके अलावा मांग की गयी है कि कार्तिक पूर्णिमा के स्नान से पूर्व गोमती में शारदा कैनाल से अतिरिक्त जल दिया जाए। उपरोक्त व्यवस्था होने से लखनऊ वासियों को गोमती स्नान का पुण्य लाभ पुनः मिलना सुनिश्चित हो जाएगा। साथ ही इस घाट पर आरती भी प्रारंभ की जा सकती है जो आस्था तथा पर्यटन की दृष्टि से भी अत्यंत सकारात्मक पहल होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here