Home न्यूज कृतियों के लोकार्पण संग अनेक विभूतियां सम्मानित 

कृतियों के लोकार्पण संग अनेक विभूतियां सम्मानित 

70
0

राष्ट्रीय साहित्य समारोह 2023

लखनऊ, 15 जून 2023। युवा उत्कर्ष साहित्यिक मंच उ.प्र. एवं तुलसी शोध संस्थान लखनऊ के संयुक्त तत्वावधान में प्रख्यात प्रवासी हिन्दी साहित्यकार रामदेव धुरंधर मारीशस के जन्म दिवस के अवसर पर  आज तुलसी सभागार ऐशबाग लखनऊ में आयोजित राष्ट्रीय साहित्य समारोह 2023 में कृतियों के लोकार्पण संग अनेक विभूतियां सम्मानित हुईं।

कार्यक्रम में क्षय मुक्त भारत की संकल्पना पर आधारित राजेश कुमार सिंह “श्रेयस” कृत उपन्यास तुमसे क्या छुपाना की समीक्षा सहित रामदेव धुरंधर की दो कृतियां प्रवासी नाटक संग्रह प्रवर्तन एवं कहानी संग्रह अपने अपने जन्म तथा धुरंधर जी के ऐतिहासिक उपन्यास पथरीला सोना पर आधारित अमित कुमार गुप्त एवं बिना चिक बड़ाईक द्वारा संपादित कृति रामदेव धुरंधर कृत : पथरीला सोना में भारतीय मजदूरों एवं उनकी सन्तानो का यथार्थ चित्रण का लोकार्पण किया गया l इसके अतिरिक्त इस कार्यक्रम में जयपुर के साहित्यकार प्रदीप मिश्र “दानिस” कृत दोहासंग्रह मै तो केवल शून्य हूँ का लोकार्पण तथा प्रख्यात व्यंग्यकार अनूप श्रीवास्तव एवं श्रेष्ठ साहित्यकार रामकिशोर उपाध्याय द्वारा सम्पादित लोकप्रिय हास्य व्यंग पत्रिका अट्टहास का रामदेव धुरंधर पर आधारित विशेषानांक भी प्रकाशित किया गया l

कार्यक्रम में साहित्यकारों,क्षय उन्मूलन कार्यकर्ताओं एवं सामजिक कार्यो में विशेष अवदान देने वाले, तीस व्यक्तित्वों (  महान साहित्यकार स्व. जयशंकर प्रसाद की प्रपौत्री कविता कुमारी प्रसाद सहित)  को राष्ट्रीय साहित्य उत्कर्ष सम्मान 2023 से सम्मानित किया गया l

कार्यक्रम में वरिष्ठ साहित्यकार राजेश कुमार सिंह “श्रेयस” ने बताया कि रामदेव धुरंधर के जन्मदिन पर सम्पन्न हुआ यह कार्यक्रम प्रवासी साहित्य पर शोध या अध्ययन कर रहे छात्र -छात्राओं सहित अन्य साहित्यसेवियों के लिये उपयोगी एवं ज्ञानवर्धक रहा।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में प्रदेश के क्षेत्रीय क्षय नियंत्रण प्रबंधन अधिकारी डॉ. अखिलेश त्रिपाठी ने कहा की भारत को वर्ष 2025 तक क्षय मुक्त किये जाने के इस महाअभियान एवं जनजागरुकता फैलाने में साहित्यकार वर्ग महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकतें है। राजेश कुमार सिंह “श्रेयस” कृत क्षय मुक्त भारत की संकल्पना पर आधारित उपन्यास तुमसे क्या छुपाना इसका एक बड़ा उदाहरण है।

कार्यक्रम में राम किशोर उपाध्याय राष्ट्रीय अध्यक्ष,युवा उत्कर्ष साहित्यिक मंच नई दिल्ली, डा.दीपक पाण्डेय एवं डॉ नूतन पाण्डेय सहायक निदेशक द्वय,केंद्रीय हिंदी निदेशालय नई दिल्ली, डॉ. राजीव पाण्डेय अध्यक्ष अंतराष्ट्रीय शब्द सृजन मंच  एवं श्रीराम बहादुर मिश्रा अध्यक्ष अवध भारती संस्थान बाराबंकी ने श्रेयस के उपन्यास तुमसे क्या छुपाना की समीक्षा के साथ साथ प्रवासी साहित्य, विशेष रूप से गिरमिटिया देशों में रचे जा रहे हिंदी साहित्य पर सारगर्भित व्याख्यान दिया।

कार्यक्रम में युवा उत्कर्ष साहित्यिक मंच नई दिल्ली के केंद्रीय,महासचिव ओम प्रकाश शुक्ला, जीवन राय, शिक्षाविद प्रो.बलराम गुप्ता (विभागाध्यक्ष,हिंदी विभाग ), डा. अष्टभुजा मिश्रा, कवियत्री प्रमिला पाण्डेय,प्रसिद्ध गीतकार रामराज भारती, बेअदब ‘लखनवी, वी.पी. सिंह, प्रदीप सारंग, अभिषेक सिंह सहज़, सूर्य प्रकाश सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे अनूप श्रीवास्तव  ने कहा कि प्रवासी साहित्य पर आयोजित यह कार्यक्रम स्वयं में अनूठा, सारगर्भित एवं विशेष रहा। कार्यक्रम में बीज वक्तव्य की प्रस्तुति डा प्रकाश मिश्रा, वरिष्ठ कहानीकार एवं एसोसिएट प्रोफेसर  (केमिस्ट्री) द्वारा दी गयी। कार्यक्रम का संचालन राजेश कुमार सिंह एवं धन्यवाद ज्ञापन नंदकिशोर वर्मा ने दिया।

राष्ट्रीय साहित्य उत्कर्ष सम्मान 2023 से सम्मनित व्यक्ति

सर्वश्री  रामराज भारती, डॉ मोहम्मद जावेद (मुरादाबाद), आनंद तिवारी, (लखनऊ) सोमनाथ कश्यप, राजेश गंगवार (पीलीभीत) अरुण कुमार सिंह(बलिया), पीयूष सेंगर, (गाजियाबाद ) मृदुल कुमार सिंह (अलीगढ़), अनिल कुमार सचान (लखनऊ) शिरीष कुमार मिश्रा मिश्रा, (लखनऊ) अभिषेक सिंह, प्रदीप कुमार चौधरी,(लखनऊ) आर एस विश्वकर्मा सजल, (लखनऊ) अरुण कुमार सिंह अमेठी,(लखनऊ) देवेश सिंह यादव (प्रतापगढ़,) पंकज कुमार सिंह( ओंदी बलिया ), नीलेश मिश्रा एवं करुणा शंकर मिश्रा( संयुक्त रूप से) आकाश अर्थव, (बस्ती), किरन सिंह, (लखनऊ)  शिव आश्रय प्रजापति,प्रकाशक हरीतिमा प्रकाशन , लखनऊ,) , कविता कुमारी प्रपोत्री स्व जय शंकर प्रसाद (वाराणसी ),अमित गुप्ता गुप्ता, बड़ोदा, (गुजरात ) अतुल राय, एवं  रजत जायसवाल (लखनऊ),  दीपक सिंह सेंगर ( कानपुर देहात ), अभय चंद्र मित्रा, मोना सिंह, बृजेश यादव गुजरात, अभिषेक सिंह सहज़, सूर्य प्रकाश सूरज, राहुल गोस्वामी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here