Home न्यूज कथक, बॉलीवुड गीतों संग कॉमेडी नाइट ने मंत्रमुग्ध किया

कथक, बॉलीवुड गीतों संग कॉमेडी नाइट ने मंत्रमुग्ध किया

266
0

भारत महोत्सव बारहवीं सांस्कृतिक संध्या

लखनऊ , 11 दिसम्बर 2021। कला संस्कृति के प्रतीक कांशीराम स्मृति उपवन आशियाना लखनऊ में चल रहे भारत महोत्सव 2021 की बारहवीं सांस्कृतिक सन्ध्या में कथक, बॉलीवुड गीतों संग कॉमेडी नाइट ने मंत्रमुग्ध किया।

आज की ग्यारहवीं सांस्कृतिक संध्या का उदघाटन मुख्य अतिथि सुनील कुमार डी आई जी सी.आर.पी.एफ, विशिष्ट अतिथि नितेश भारद्वाज समाज सेवी, देवेन्द्र मिश्रा सब इंस्पेक्टर ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इस अवसर पर प्रगति पर्यावरण संरक्षण ट्रस्ट के अध्यक्ष विनोद कुमार सिंह और उपाध्यक्ष नरेंद्र बहादुर सिंह, प्रियापाल, पवन कुमार पाल ने मुख्य अतिथि सुनील कुमार, देवेन्द्र मिश्रा और नितेश भारद्वाज को पुष्प गुच्छ, अंग वस्त्र और स्मृति चिन्ह भेंट कर भारत हस्तशिल्प महोत्सव गौरव सम्मान से सम्मानित किया।

संगीत से सजे कार्यक्रम का आरम्भ माधुरी सिंह ने अपनी खनकती हुई आवांज में तेरी मिट्टी मे मिल जावां, कजरा मोहब्बत वाला सहित अन्य बॉलीवुड़ गीतों को सुनाकर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। इसी क्रम में बाल कृष्ण शर्मा ने यह शाम म्स्स्तानी, आज फिर उनसे मुलाक़ात होगी, भौरौ की गुंजन है मेरा दिल एवं प्रवीण श्रीवास्तव ने जाने कहां गये वो दिन ओल्ड मैलोडी को सुनाकर श्रोताओं का दिल जीता।

संगीत से सजे कार्यक्रम के अगले प्रसून में आयुष, श्रेजल, प्रेरणा, अक्षरा, अनन्या, दिव्या ने मंजू मलकानी के नृत्य निर्देशन में गणेश वन्दना पर नृत्य द्वारा भगवान गणेश जी के आवाहन के उपरान्त महिषासुर मर्दिनी कथक बैले मे भावपूर्ण अभिनय युक्त कथक नृत्य द्वारा कलाप्रेमी दर्शकों को भगवती देवी दुर्गा के नवों रूपों के दर्शन करवाये। इसी क्रम में आयुष श्रीवास्तव ने ठुमरी पिया घर आवेगे पर भावों की सुखद और मनोरम प्रस्तुति दी।

मन को मोह लेने वाली इस प्रस्तुति के उपरान्त कार्यक्रम के आकर्षण का केंद्र बिन्दु उभरी सम्पूर्ण शुक्ला की कॉमेडी नाइट। सम्पूर्ण ने नवजोत सिंह सिद्धू, जॉनी वाकर ,डॉक्टर मशहूर गुलाटी, शक्ति कपूर, लालू प्रसाद यादव सहित अन्य फिल्मी अभिनेताओं और राजनेताओं की मिमिक्री कर श्रोता.दर्शकों को हंसाकर लोटपोट किया। इसी क्रम में मैजीसियन पुनीत ने अपने जादुई करतबों से दर्शकों को रोमांचित कर दिया।

दिल को जीत लेने वाली इस प्रस्तुति के उपरान्त शमशुर रहमान नवेद, अशनी श्रीवास्तव, अभिलाषा सिंह, पंकज पान्डेय और स्मृति भंडारी ने संयुक्त रूप से जय हनुमान ज्ञान गुन सागर हनुमान चालीसा पर भरतनाट्य्म नृत्य शैली मे भावपूर्ण प्रस्तुति देकर दर्शकों को हनुमान जी की भक्ति के सागर में आकन्ठ डुबोया।

इस अवसर पर राज्य कर्मचारी साहित्य संस्थान की ओर से कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया, जिसमे पंडित आदित्य द्विवेदी, घनानन्द पान्डेय, शोभा दीक्षित, मन्जूल मंजर, योगेश चौहान, प्रदीप बहराइची, ताराचन्द्र, अमरेन्द्र, प्रतिभा गुप्ता, श्रवण कुमार, शरद सिन्धु, सुनील कुमार बाजपेयी सहित अन्य कवियों ने अपनी-अपनी कविताओं से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here