Home न्यूज अन्तरा सार्थक संगीत अकादमी की प्रथम संगीत प्रतिभा प्रतियोगिता का रंगारंग समापन

अन्तरा सार्थक संगीत अकादमी की प्रथम संगीत प्रतिभा प्रतियोगिता का रंगारंग समापन

81
0

प्रतिभागियों ने अपनी संगीत प्रतिभा को शास्त्रीय और फिल्मी गीतों के जरिए पेश किया
▪️अतिथि के साथ निर्णायक के रूप में लखनऊ के भातखंडे संगीत विश्वविद्यालय से जुड़े संगीत मर्मज्ञों ने प्रतिभागियों आकलन किया।

लखनऊ : गीत-संगीत की विधा से जुड़ी प्रमुख संस्था अन्तरा सार्थक संगीत अकादमी ने अपनी प्रथम संगीत प्रतिभा प्रतियोगिता का आयोजन किया। इस कार्यक्रम का ऑडिशन दो दिनों तक दो श्रेणियों – एक दस वर्ष तक और दूसरी श्रेणी दस वर्ष से ऊपर तक चयनित की गयी। गीतों की मस्ती के बीच अलीगंज के सेक्टर बी 1/42 (माइका) अन्तरा सार्थक अकादमी में सम्पन्न हुआ। प्रस्तुति के दौरान अतिथि के रूप में भातखंडे संगीत विश्वविद्यालय लखनऊ की पूर्व कुलपति प्रो. पूर्णिमा पाण्डेय के साथ इन्दौर घराने के प्रख्यात कलाकार पंडित अमित मुखर्जी के साथ निर्णायक के रूप में लखनऊ भातखंडे से जुड़ी रजिस्ट्रार डॉ. मीरा माथुर एवं परीक्षक व संगीत शिक्षिका कावेरी बनर्जी ने प्रतिभागियों की प्रतिभा का आकलन किया।
इस मौके पर प्रो. पूर्णिमा पाण्डेय ने कहा कि इस कार्यक्रम में आना निश्चित रूप से सुखद अनुभूति रही। बच्चों ने बहुत अच्छी प्रस्तुति दी, इससे दिल खुश हो गया। सबसे बड़ी बात यह कि बच्चों की अपनी संस्कृति से जोड़ना और उनको जब अवसर मिले तो कला के जरिये जाहिर करना जरूरी है। अकादमी अन्तरा सार्थक की यह पहल बहुत ही सार्थक है।
प्रख्यात कलाकार पंडित अमित मुखर्जी ने बताया कि बच्चों की प्रतिभा देखकर उत्साहित हूं। लखनऊ संगीत का गढ़ है और यहां से ही लोग सीखकर बॉलीवुड में जाते हैं। बच्चों को संगीत से जोड़ने के बाद अच्छा इन्सान बनाने में बहुत मदद मिलेगी।
विदिशा ट्रस्ट की प्रमुख वंदना भार्गव और अशोक भार्गव ने स्मृति चिह्न व अंगवस्त्र प्रदान कर अतिथियों व निर्णायकों का आभार जताया।
अन्तरा सार्थक संगीत अकादमी के इस तीन दिन चले ऑडिशन में से छांट कर 14 प्रतिभागियों को फाइनल चक्र के लिए बुलाया गया, जिनकी प्रस्तुति की गयी। प्रस्तुति के दौरान “झूमें जो पठान मेरी जान, देव श्री गणेशा देवा, नमन करत श्री गुरुचरणा, मेरे ढोलना… सुन मेरे प्यार की धुन, तुम देना साथ मेरा, तू जहां-जहां चलेगा…” जैसे गीतों पर प्रतिभागियों ने अपनी प्रस्तुति दी। सीनियर वर्ग में पहले स्थान पर खुशी आर्या, दूसरे पर तूशिता श्रीवास्तव, तीसरे पर लावन्या, चौथे पर मोनिशा सिंह और पांचवें स्थान पर शैली रही। जूनिवर वर्ग में गर्विका गुप्ता प्रथम, शमिता द्वितीय, दशिता तृतीय, श्रुति ओझा चतुर्थ और पांचवे स्थान पर अवनी साधवानी रही।
कार्यक्रम का संचालन किया भाविनी बहुगुणा ने।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here