Home न्यूज डा.अनिल रस्तोगी व विजय वास्तव सहित अदाकार होंगे सम्मानित

डा.अनिल रस्तोगी व विजय वास्तव सहित अदाकार होंगे सम्मानित

32
0

पांच नौटंकियों का रस मिलेगा तीसरे ‘उर्मिल रंग महोत्सव’ में
लखनऊ, कौशांबी, बांदा, प्रयागराज और कानपुर की प्रस्तुतिया होंगी शामिल
लखनऊ, 30 जून। सुप्रसिद्ध लेखक, रंगनिर्देशक, व्यंग्यकार उर्मिलकुमार थपलियाल की स्मृति में 16 जुलाई से प्रारम्भ हो रहे पांच दिवसीय ‘उर्मिल रंग महोत्सव’ के सीज़न-थ्री में रंगप्रेमियों को प्रदेश की लोकनाट्य विधा नौटंकी के पांच अलग-अलग रंग देखने को मिलेंगे। इस अवसर पर अभिनेता डा.अनिल रस्तोगी और विजय वास्तव को उर्मिल रंग सम्मान से अलंकृंत किया जायेगा। साथ ही डा.उर्मिलकुमार थपलियाल फाउण्डेशन द्वारा 20 जुलाई तक संग गाडगेजी महाराज प्रेक्षागृह गोमतीनगर में चलने वाले इस नाट्योत्सव के 16 जुलाई को डा.थपलियाल रचित नौटंकी ‘हरिश्चन्नर की लड़ाई’ के 1984 में हुये प्रथम प्रदर्शन के सभी अदाकारों का सम्मान इस प्रस्तुति के रितुन थपलियाल के निर्देशन में होने वाले प्रदर्शन के साथ होगा।
रोज शाम सात बजे प्रारम्भ होने और निःशुल्क प्रवेश वाले इस रंग उत्सव के बारे में संयोजक द्वय सत्येन्द्र मिश्रा व रितुन ने बताया कि नौंटंकी विधा को रेडियो और रंगमंच पर नये रूप में सहेजकर प्रस्तुत करने में डा.थपलियाल का योगदान अप्रतिम रहा। वे राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय और अन्य प्रतिष्ठित नाट्य प्रशिक्षण संस्थानों की विभिन्न समितियों के सदस्य रहे। उन्हें संगीत नाटक अकादमी सम्मान दिल्ली, उ.प्र.संगीत नाटक अकादमी सम्मान, अकादमी रत्न सदस्यता, उ.प्र.हिन्दी संस्थान के पुरस्कारों सहित अनेक सम्मान प्राप्त हुए। उनके द्वारा लिखित निर्देशित ‘हरिश्चन्नर की लड़ाई’ एक चर्चित प्रस्तुति है, जिसके देश भर में डेढ़़ सौ से ज्यादा प्रदर्शन हो चुके हैं। महोत्सव के दूसरे दिन 17 जुलाई को द्वारिका लोकनाट्य कला उत्थान समिंत कौशांबी के कलाकार संतोषकुमार के निर्देशन में नौटंकी ‘केवट के राम’ का मंचन करेंगे। इसी क्रम में बांदा का बुंदेलखण्ड लोक कला संस्थान विजय बहादुर श्रीवास्तव के निर्देशन में सुप्रसिद्ध नौटंकी रचना ‘राजा भर्तृहरि’ को 18 जुलाई को मंच पर उतारेगी। रंग उत्सव की चौथी शाम 19 जुलाई को प्रयागराज के विनोद रस्तोगी स्मृति संस्थान रंगमण्डल की ओर से विनोद रस्तोगी लिखित और अजय मुखर्जी निर्देशित नौटंकी ‘बंटवारे की आग’ का मंचन होगा। अंतिम संध्या 20 जुलाई को रसरंग फाउण्डेशन कानपुर की ओर से नीरज कुशवाहा के निर्देशन में नौटंकी ‘मातादीन’ का मंचन किया जायेगा।
इस अवसर पर 40 वर्ष पूर्व हुए ‘हरिचन्नर की लड़ाई’ के रवीन्द्रालय में हुये प्रथम प्रदर्शन में डा.रस्तोगी व विजय वास्तव के साथ ही प्रथम प्रस्तुति में भाग लेने वाले अन्य कलाकारों  राकेश अग्निहोत्री, देवेश अग्निहोत्री, भूपेंद्र सिंह, राजीव प्रभाकर अवस्थी, शिवाजी आवारा वीरेंद्र रस्तोगी, अश्विनी मक्खन शोभना जगदीश, रितुन, मनोज जोशी, रूप राज नागर, तूलिका गुप्ता, कविता सोलंकी, विनीता सोलंकी व मधुसूदन भी सम्मानित होंगे। महोत्सव पर एक स्मारिका भी प्रकाशित होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here